General Hindi Notes PDF (हिन्दी साहित्य नोट्स)

General Hindi Notes PDF

General Hindi Notes PDF सभी एग्जाम कुछ महीने बाद शुरू होने वाले है!  सभी एक्साम्स में General Hindi Notes PDF का बहुत ही महत्वपूर्ण रोल है! आज हम आपके लिए सबसे अच्छी बुक पीडीऍफ़ की फॉर्म मैं General Hindi के लिए लाये हैं ! General Hindi Notes PDF और हम आपको Samamya Hindi Free PDF Download उपलब्ध करवा रहे हैं !

General Hindi Notes PDF के नोट्स की डायरेक्ट लिंक हमने यहां उपलब्ध करा दी है! जिसे आप निचे दिए गए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके डाउनलोड कर सकते है! अगर आपको किसी भी तरीके की परेशानी हो तो आप हमे निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में टाइप कर सकते है! हम जल्द से जल्द आपकी सहायता करेंगे! हमे आपकी सहायता करने में ख़ुशी होगी!

General Hindi Notes PDF में चार्ट ग्राफ के जरिये इस विषय को अति सरलतम रूप दिया गया है! यह नोट्स बड़े कोचिंग इंस्टिट्यूट के क्लास नोट्स को समायोजित करके बनाया गया है! और ये नोट्स आपको हम फ्री में pdfexam की वेबसाइट से बड़े आराम से डाउनलोड कर सकते है ! इन क्लास लेक्चर के बिना ये नोट्स अधूरे है! General Hindi Notes PDF में वे सभी त्रुटियों को हटाया गया है जिनसे इन्हे पढ़ने में मुश्किल हो!

इस Hindi Grammar Notes in Hindi में इन सभी टॉपिक से सम्बंधित कुछ प्रश्न भी दिए गए है जिनसे आपको अपने सभी एग्जाम की त्यारी करने में बहुत मदत करेगी! हम उम्मीद करते है आपको ये Hindi PDF Download करके और इसे पढ़ के बहुत अच्छा लगेगा और आप अपने एग्जाम में जरूर सफल होंगे यही हमारी कामना है!



लिंग और वचन

1. लिंग 

लिंग की परिभाषा

संज्ञा के जिस रूप से किसी व्यक्ति या वस्तु की पुरुष अथवा स्त्री जाति का बोध होता हैं उसे लिंग कहते हैं ।

उदाहरण: माता, पिता, यमुना, शेर, शेरनी, दादा, दादी, बकरा, बकरी |

लिंग के भेद

लिंग के दो भेद होते हैं :

(१) पुल्लिंग (Masculine Gender)

जिन शब्दों से पुरुष जाति का बोध होता है उन्हें पुल्लिंग शब्द कहते हैं ।

जैसे: पिता, भाई, लड़का, पेड़, सिंह शिव, हनुमान, बैल ।

(२) स्त्रीलिंग (Feminine Gender)

जिन शब्दों से स्त्री जाति का बोध होता है उन्हें स्त्रीलिंग शब्द कहते हैं ।

जैसे: माता, बहन, यमुना, गंगा, कुरसी, छड़ी, नारी बुआ, लड़की, लक्ष्मी, गाय ।

मुहावरे एवं लोकोक्तियाँ

मुहावरा – अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनाना।

 अर्थ – अपनी बड़ाई आप ही करना। 

मुहावरा – अब पछताए होत क्या जब चिडिया चुग गई खेत।

 अर्थ – समय रहते काम ना करना और नुक़सान हो जाने के बाद पछताना। जिससे कोई लाभ नहीं होता है। 

मुहावरा – अंडे सेवे कोई, बच्चे लेवे कोई॥

 अर्थ – परिश्रम कोई व्यक्ति करे और लाभ किसी दूसरे को हो जाए। 

मुहावरा – अंत भला तो सब भला।

 अर्थ – परिणाम अच्छा हो जाए, तो सभी कुछ अच्छा मान लिया जाता है। 

मुहावरा – अढ़ाई दिन की बादशाहत।

 अर्थ – थोड़े दिन की शान-शौक़त। 

 मुहावरा – अन्‍न जल उठ जाना।

 अर्थ – किसी जगह से चले जाना। 

मुहावरा – अन्‍न न लगना।

 अर्थ – खा-पीकर भी मोटा न होना। 

मुहावरा – अपना-अपना राग अलापना।

 अर्थ – अपनी ही बातें कहना। 

मुहावरा – अपना उल्‍लू सीधा करना।

 अर्थ – अपना मतलब निकालना।

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द

१.जो दिखाई न दे – अदृश्य

२.जिसका जन्म न हो – अजन्मा

३.जिसका कोई शत्रु न हो – अजातशत्रु

४.जो बूढ़ा न हो – अजर

५.जो कभी न मरे – अमर

६.जो पढ़ा -लिखा न हो – अपढ़ ,अनपढ़

७.जिसके कोई संतान न हो – निसंतान

८.जो उदार न हो – अनुदार

९. जिसमे धैर्य न हो – अधीर 

१०.जिसमे सहन शक्ति हो – सहिष्णु

समास – परिभाषा व प्रकार 

समास की परिभाषा 

समास का मतलब है संक्षिप्तीकरण। दो या दो से अधिक शब्द मिलकर एक नया एवं सार्थक शब्द की रचना करते हैं। यह नया शब्द ही समास कहलाता है।

यानी कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक अर्थ को प्रकट किया जा सके वही समास होता है। जैसे:

 

 समास के उदाहरण : 

कमल के सामान चरण : चरणकमल

रसोई के लिए घर : रसोईघर

घोड़े पर सवार : घुड़सवार

देश का भक्त : देशभक्त

राजा का पुत्र : राजपुत्र आदि।

वर्तनी सुधार 

 वर्तनी सुधार 
किसी शब्द को लिखने मेँ प्रयुक्त वर्णोँ के क्रम को वर्तनी या अक्षरी कहते हैँ। अँग्रेजी मेँ वर्तनी को ‘Spelling’ तथा उर्दू मेँ ‘हिज्जे’ कहते हैँ। किसी भाषा की समस्त ध्वनियोँ को सही ढंग से उच्चारित करने हेतु वर्तनी की एकरुपता स्थापित की जाती है। जिस भाषा की वर्तनी मेँ अपनी भाषा के साथ अन्य भाषाओँ की ध्वनियोँ को ग्रहण करने की जितनी अधिक शक्ति होगी, उस भाषा की वर्तनी उतनी ही समर्थ होगी। अतः वर्तनी का सीधा सम्बन्ध भाषागत ध्वनियोँ के उच्चारण से है।
    शुद्ध वर्तनी लिखने के प्रमुख नियम निम्न प्रकार हैँ–
 
• हिन्दी मेँ विभक्ति चिह्न सर्वनामोँ के अलावा शेष सभी शब्दोँ से अलग लिखे जाते हैँ, जैसे–
– मोहन ने पुत्र को कहा।
– श्याम को रुपये दे दो।
      परन्तु सर्वनाम के साथ विभक्ति चिह्न हो तो उसे सर्वनाम मेँ मिलाकर लिखा जाना चाहिए, जैसे– हमने, उसने, मुझसे, आपको, उसको, तुमसे, हमको, किससे, किसको, किसने, किसलिए आदि।

 

General Hindi Notes PDF

Topic:General Hindi Notes PDF
TypePDF
Size160 MB
Pages300 Pages

 Download ALL PDF

Maths Topicwise Free PDF > Click Here To DownloadEnglish Topicwise Free PDF > Click Here To Download
GK/GS/GA Topicwise Free PDF > Click Here To DownloadReasoning Topicwise Free PDF > Click Here To Download
Indian Polity Free PDF > Click Here To DownloadHistory  Free PDF > Click Here To Download
Computer Topicwise Short Tricks > Click Here To DownloadEnvironmentTopicwise Free PDF > Click Here To Download
UPSC Notes > Click Here To Download
SSC Notes Download
>
Click Here To Download



Click here to Download


अगर इन PDF में किसी भी प्रकार का सुझाव आप देना कहते है या किसी भी PDF/POST के बारे में आप सुझाव हमे देना चाहते है तो आप हमे निचे दिए हुए कमेंट बॉक्स में दे सकते है या हमे आप [email protected] पर मेल भी कर सकते है!

pdfexam.com will update many more new pdf and Study Materials and exam updates, keep Visiting and share our post, So more people will get this. This PDF is not related to PDFEXAM and if you have any objection over this pdf, you can mail us at [email protected]

Here you can also check and follow our Facebook Page (pdfexam) and our Facebook Group. Please share, Comment and like Our post on Facebook! Thanks to Visit our Website and keep Follow our Site to know our New Updates which is Useful for Your future Competitive Exams.

Please Support By Joining Below Groups And Like Our Pages We Will be very thankful to you.

  1. Facebook Page : https://www.facebook.com/PDFexamcom-2295063970774407/
  2. Facebook Group : https://www.facebook.com/groups/395366674215955/

TAG- General Hindi Grammar Notes PDF, Download Hindi Notes, Samnya Hindi Grammar notes PDF Free Download, Free Hindi Grammar Notes, Important Hindi Grammar Notes for all Competitive Exams

Leave A Reply

Your email address will not be published.